प्रधानमंत्री मोदी ने ERCP पर नहीं निभाया वादा-

गहलोत – बोले-केंद्र में तानाशाह सरकार, एजेंसियों से सरकार गिराने की कोशिश की

डीग – राजस्थान – राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज डीग दौरे पर रहे। वे यहां कांग्रेस प्रत्याशी विश्वेंद्र सिंह की नामांकन सभा में शामिल हुए। मुख्यमंत्री गहलोत ने डीग पहुंचने के बाद सबसे पहले लक्ष्मण मंदिर में दर्शन किए। उनके साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह भी रहे।

जिला बनने की दी बधाई

सभा में मुख्यमंत्री गहलोत ने सबसे पहले डीग जिला बनाने की बधाई दी। उन्होंने कहा कि जिला बनने से लोगों को काम करवाने में आसानी होगी। 100 से ज्यादा उम्र के लोग मुझे आशीर्वाद दे रहे है और कह रहे कि इतना काम पहले कभी नहीं हुआ। ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है। राजस्थान आज पूरे देश में चर्चा में आ गया है।

शिक्षा-स्वास्थ्य के क्षेत्र में शानदार काम हुए

आज राजस्थान में शिक्षण संस्थान शानदार है। स्कूल, कॉलेज की स्थिति बहुत बेहतर हुई है। स्वास्थ्य क्षेत्र में कई काम हुए है। हर जिले में मेडिकल कॉलेज खोले गए है। आज 25 लाख का बीमा दिया जा रहा है। इलाज फ्री, दवाई फ्री, ऑपरेशन फ्री किया जा रहा है। स्वास्थ्य का कानून बनाया है। ऐसा पूरे देश में कहीं नहीं है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना से गरीबों को लाभ मिला है।

लंपी के समय 40 हजार का मुआवजा दिया-मुख्यमंत्री

महंगाई राहत शिविर से 10 गारंटी दी है। वो हमने पूरी की है। उसमें कामधेनू योजना भी है। लंपी से गायों की मौत हो गई थी। राजस्थान एकमात्र ऐसा राज्य है, जहां गायों के मरने पर 40 हजार रुपए दिए। अब बीमा किया जा रहा है। अन्नपूर्णा स्कीम भी चलाई जा रही है। अब 7 नई गारंटी दी जा रही है।

प्रधानमंत्री ने अपनी घोषणा पूरी नहीं की-मुख्यमंत्री

ईआरसीपी के लिए संघर्ष जारी है। प्रधानमंत्री ने जयपुर और अजमेर में वादा किया था। उन्होंने कहा था कि 13 जिलों की परियोजना के लिए सकारात्मक दृष्टिकोण रखेंगे, लेकिन कुछ नहीं किया। खुद की बात को लेकर भी तैयार नहीं हो रहे है। लोग तरसते है पानी के लिए, पता नहीं किसने उनको गुमराह किया। पानी वाला मंत्री राजस्थान से है। वो एक परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना घोषित नहीं करवा पाए।

प्रदेश के साथ भेदभाव हुआ-मुख्यमंत्री

प्रदेश के साथ भेदभाव अपेक्षा की जा रही है। वो वोट किस बात का मांग रहे है, कौनसा काम किया है राजस्थान के लिए। हम चंबल का पानी लेकर आए, जिससे लोगों को राहत मिली है। हालांकि अभी भी कुछ लोगों को परेशानी आ रही है। जिसको पूरा करने का प्रयास किया है। महंगाई राहत शिविर में 500 रुपए में गैस सिलेंडर की घोषणा की थी, उसको लागू कर दिया है। दुर्घटना बीमा लागू कर दिया।

लोकतंत्र को खत्म करने की हो रही कोशिश-मुख्यमंत्री

आज दिल्ली में तानाशाह गवर्मेंट है। लोकतंत्र में यकीन नहीं है, संविधान की धज्जियां उड़ रही है। कानून का राज कमजोर हो रहा है, देश के अंदर। ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स के छापे नेताओं पर पड़ रहे है। आर्थिक अपराध करने वालों के नाम आज तक नहीं आए। मेहुल चौकसी. नीरव मोदी लंदन में बैठे है। एक भी आर्थिक अपराध करने वालों को नहीं पकड़ा गया है। छापे केवल विपक्षी पार्टियों पर पड़ रहे है। आतंक मचा रखा है एजेंसियों ने। हम कहते है कि तीनों एजेंसियां ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स महत्वपूर्ण है। अगर आर्थिक अपराधी है तो जेल में डालो। लेकिन आप केवल नेताओं पर छापे डाल रहे हो। चालान पेश नहीं कर पा रहे हो, फेल हो रहे हो सब जगह।

सरकार गिराने की कोशिश की गई

बदला लेने के लिए, सरकार गिराने के लिए एजेंसियों का उपयोग किया जा रहा है। सबने साथ दिया हमारा, जिससे सरकार बच गई। नहीं तो हमारी सरकार भी चली जाती। मध्यप्रदेश, कर्नाटक में सरकार गिरा दी गई है। इन्होंने तमाशा बना रखा है। लोकतंत्र में सरकार हटाने का अधिकार जनता का है, केंद्र सरकार का नहीं। ये हमें सोचना पड़ेगा, नहीं सोचेंगे तो आने वाले पीढ़िया भुगतेगी। ये व्यवस्था खत्म करना चाहते है।